Information On Cricket In Hindi Essays On Pollution

Essay On The National Bird Peacock In Hindi

Essay On Raksha Bandhan In Hindi

Essay On Literature And Society In Hindi

Friendship Essay In Hindi Essay Topics

Essay On Strike In Hindi

If I Were A Doctor Essay In Hindi

Hindi Essay Websites For Kids

Diwali Essayexcessum

Cricket World Cup Essay In Hindi

Essay On Poverty A Curse In Hindi

Essay On Television In Hindi

Holi Festival Essay In Hindi Short Paragraph On My Favorite

Essay On Cow In Hindi Language

Essay On S Plan For Development And Administration In Hindi

Sample Essay On The Republic Day In Hindi Language

Essays In Hindi Essay On Cow In Hindi Language If I Were A Doctor

Short Essay On Diwali In Hindi

Essay On Knowledge Is Wealth In Hindi

Essay On The Festival Of Light In Hindi

Essay On Delhi My City In Hindi

भारत में प्रदूषण एक बड़ी पर्यावरणीय मुद्दा है जिसके बारे में हर किसी को पता होना चाहिए । हमारे बच्चो और कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 व 12 विद्यार्थियों को आम तौर पे स्कूल में प्रदुषण पे निबंध लिखने को दिया जाता है। माता पिता को प्रदुषण के प्रकार, कारण और रोकथाम के बारे में पता होना चाहिए ताकि वो अपने बच्चो को इसके बारे में बता सके|

वायु प्रदूषण पर निबंध | जल प्रदूषण पर निबंध | मृदा प्रदूषण पर निबंध | ध्वनि प्रदूषण पर निबंध

प्रदूषण पर निबंध (पोल्लुशन एस्से)

You can find here some essays on Pollution in Hindi language for students in 100, 150, 200, 300, 350 and 450 words.

प्रदूषण पर निबंध 1 (100 शब्द)

प्रदूषण प्राकृतिक वातावरण को दूषित करता है जो की हमारे सामान्य जीवन के लिए महत्वूर्ण है| किसी भी प्रकार का प्रदुषण हमारे प्राकृतिक वातावरण और इकोसिस्टम में अस्थिरता, स्वास्थ्य विकार और सामान्य जीवन में असुविधा उत्पन्न करता है| यह प्राकृतिक व्यवस्था को अव्यवस्थित कर देता है और प्रकृति के संतुलन को बिगड़ देता है|

प्रदूषक या प्रदुषण के तत्त्व मनुष्यों द्वाया उत्पन्न किया गया वाह्य पदार्थ या वेस्ट मटेरियल होता है जो की प्राकृतिक संसाधन जैसे की वायु, जल और भूमि आदि को प्रदूषित करते है| प्रदूषक का रासायनिक प्रकृति, सांद्रता और लम्बी आयु इकोसिस्टम को लगातार कई वर्षो से असंतुलित कर रहा है। प्रदूषक जहरीली गैस, कीटनाशक, शाकनाशी, कवकनाशी, ध्वनि, कार्बनिक मिश्रण, रेडियोधर्मी पदार्थ हो सकते है|

प्रदूषण पर निबंध 2 (150 शब्द)

प्रदूषण पृथ्वी पर उपलब्ध प्राकृतिक संसाधनों में कुछ हानिकारक या जहरीले पदार्थ का मिश्रण है। यह इस ग्रह पर रहने वाले जीवों की साधारण जीवन को प्रभावित करता है और प्राकृतिक जीवन चक्र को छति पहुँचाता है। वायु प्रदुषण दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है जिसका मुख्य कारण है बढ़ रही ऑटोमोबाइल की संख्या, ज़हरीली गैसों का रिलीज़, औद्योगिक कंपनियों का धुआं, फाइनली डिसॉल्वड सॉलिड्स और तरल एयरोसौल्ज़ इत्यादि का वातावरण में होना। जिस हवा में हरपल हम साँस लेते है वो हमारे फेफड़ों संबंधी विकार का कारण बनती है।

इस प्रकार भू प्रदुषण और जल प्रदुषण भी विभिन्न कारणों से होता है जैसे की पीने के पानी में सीवेज के पानी (जीवाणु, वायरस व हानिकारक रसायन ग्रसित) का मिश्रण, कुछ खतरनाक एग्रोकेमिकल्स जैसे की कीटनाशक, शाकनाशी, कवकनाशी, ईथर बेंजीन जैसे कार्बनिक मिश्रण, रेडियम और थोरियम सहित कुछ रेडियोधर्मी पदार्थ, ठोस वेस्ट (औद्योगिक राख, कचरा, मलबा) इत्यादि| हमें इसके दुष्प्रभाव से बचने के लिए सरकार द्वारा लागू सभी नियंत्रण के उपायों का पालन करना चाहिए|

प्रदूषण पर निबंध 3 (200 शब्द)

प्रदुषण एक प्रमुख पर्यावरणीय मुद्दा बन गया है क्योकि यह हर आयु वर्ग के लोगों और जानवरों के लिए स्वास्थ्य का खतरा है। हाल के वर्षों में प्रदूषण की दर बहोत तेजी से बढ़ रही है क्योकि औद्योगिक अपशिष्ट पदार्थ सीधे मिट्टी, हवा और पानी में मिश्रित हो रहीं हैं। हालांकि हमारे देश में इसे नियंत्रित करने के लिए पूरा ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इसे गंभीरता से निपटने की जरूरत है अन्यथा हमारी आने वाली पीढ़ी बहोत ज्यादा भुगतेगी।

प्रदूषण प्राकृतिक संसाधनों के प्रभाव के अनुसार कई श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है जैसे की वायु प्रदूषण, भू प्रदूषण, जल प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण आदि| प्रदूषण की दर इंसान के अधिक पैसे कमाने के स्वार्थ और कुछ अनावश्यक इच्छाओं को पूरा करने की वजह से बढ़ रही है। आधुनिक युग में जहाँ तकनीकी उन्नति को अधिक प्राथमिकता दी जाती है वहां हर व्यक्ति जीवन का असली अनुशासन भूल गया है।

लगातार और अनावश्यक वनो की कटौती, शहरीकरण, औद्योगीकरण के माध्यम से ज्यादा उत्पादन, प्रदूषण का बड़ा कारण बन गया है। इस तरह की गतिविधियों से उत्पन्न हुआ हानिकारक और विषैले कचरा, मिट्टी, हवा और पानी के लिए अपरिवर्तनीय परिवर्तन का कारण बनता है जोकि अंततः हमें दुःख की ओर अग्रसर करता है| यह बड़े सामाजिक मुद्दे को जड़ से खत्म करने और इससे निजात पाने के लिए सार्वजनिक स्तर पर सामाजिक जागरूकता कार्यक्रम की आवश्यकता है।


 

प्रदूषण पर निबंध 4 (300 शब्द)

प्रदूषण शब्द का अर्थ होता है चीजो को गन्दा करना। तदनुसार प्राकृतिक संसाधनों का प्रदूषण, पारिस्थितिकी तंत्र में असंतुलन का कारण बनता है। वर्तमान में हम प्राणघातक रूप से पर्यावरण प्रदूषण की समस्या से घिरे हुए हैं। प्रदूषण, क़ुदरती प्राकृतिक पर्यावरण की तुलना में बहुत तेज दर से पर्यावरण में किसी भी वाह्य या जहरीले पदार्थ का मिश्रण होता है| इस शैतानीय सामाजिक समस्या के मुख्य कारण हैं औद्योगीकरण, वनों की कटाई और शहरीकरण, प्राकृतिक संसाधन को गन्दा करने वाले उपोत्पाद जो की सामान्य जीवन की दिनचर्या के रूप इस्तेमाल की जाती है|

वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण और भू प्रदूषण सबसे खतरनाक प्रदुषण के प्रकार है जो की मानव जाति के लिए प्रतच्छ स्वास्थ विकार है| हमारे पास पिने के लिए स्वच्छ पानी, सांस लेने के लिए शुद्ध हवा, और फसल उगाने ने लिए प्रदुषण रहित भूमि नहीं है। भविष्य में इस ग्रह पर जीवन के अस्तित्व को बनाये रखने के लिए इस व्यापक रूप से फैल रहे प्रदूषण को नियंत्रित करना पड़ेगा। विभिन्न प्रकार के प्रदूषक जो की हमारे प्राकृतिक पारिस्थितिकी तंत्र को बिगड़ रहे हैं वे हैं गैस (NO, SO2, CO2, CO, NO2), हैलोजन (आयोडीन, क्लोरीन, ब्रोमीन), जमा पदार्थ (धूल, धुंध, कंकरी), एग्रोकेमिकल्स (इंसेक्टिसाइड, कीटनाशक, शाकनाशी), शोर, फोटोकेमिकल ओक्सिदेंट्स (फोटोकेमिकल स्मोग, पेरॉक्सीएसीटिल नाइट्रेट, ओजोन, नाइट्रोजन ऑक्सीडेस), उद्योगों से कार्बनिक यौगिक (एसिटिक एसिड, बेंजीन, ईथर), रेडियोएक्टिव पदार्थ (रेडियम, थोरियम), कुछ ठोस अपशिष्ट (राख, कचरा), आदि ।

प्रदूषण आधुनिक युग के औद्योगिक समाजों का सबसे बड़ा पार्श्व प्रभाव है जहां की औद्योगिक विकास और ग्रीन हाउस प्रभाव प्रतिकूल रूप से पारिस्थितिकी तंत्र को प्रभावित किया है। औद्योगीकरण की वजह से जीवन रक्षा प्रणाली तेजी से जीवन विनाशी प्रणाली में परिवर्तित हो रही है। मानव लोभ और कुछ भी करने की आज़ादी, गंभीर पतन और संसाधनों के कुप्रबंधन की ओर ले जा रही है|

प्रदूषण पर निबंध 5 (350 शब्द)

प्रदूषण सबसे गंभीर मुद्दा बन गया है और हर किसी को अपने दैनिक जीवन में स्वास्थ्य सम्बंधि खतरों का सामना करना पड़ रहा है। औद्योगिक कचरे और अन्य गतिविधियों से उत्पन्न हुए विभिन्न प्रकार के प्रदूषक हमारे प्राकृतिक संसाधनों जैसे की मिट्टी, हवा और पानी को दूषित कर रहे हैं| हवा, पानी, मिट्टी में मिश्रित होने के बाद ये मानव जाति और जानवर प्रणाली को प्रभावित कर रहे है और स्वास्थ्य के लिए घातक बीमारियां उत्पन्न कर रहे हैं| ध्वनि प्रदूषण शरीर के सुनने की प्रणाली को प्रभावित करने के साथ ही स्मृति में बाधा पैदा कर रही है।

वाहनों के परिवहन की वजह से शहरों में प्रदूषण की दर गांवों की तुलना में अधिक है। वाहनो, फैक्टरियों और उद्योगो से निकलने वाले धुएं शहरों में स्वच्छ हवा को प्रभावित कर रहे है जो की सांस लेने के लिए उचित नहीं है| बड़े सीवेज सिस्टम से गन्दा पानी, घरों से अन्य कचरा, कारखानों और उद्योगों से उपोत्पाद, सीधे नदियों, झीलों और महासागरों को मिल रहें हैं। ज्यादातर ठोस अपशिष्ट, कचरा और अन्य अनोपयोगी वस्तु लोगो द्वारा भूमि पर फेंके जाते हैं जो की फसल उत्पादन को प्रभावित करते है। शहरों में अधिकांश लोग सिर्फ अपने छड़ीक खुशी के लिए जन्मदिन, विवाह या अन्य अवसरों के दौरान काफी हद तक शोर प्रदूषण फैलाते हैं। वाहनों की बढ़ती संख्या की वजह से शहरों में सभी सड़के दिन भर यातायात के पूर्ण होते जा रहे हैं जो की वायु प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण के कारण हैं।

अंततः मनुस्यो द्वारा बना प्रौद्योगिक उन्नति पृथ्वी पर सभी प्रकार के प्रदूषण का मुख्य कारण है। कोई और नहीं बल्कि मनुस्य खुद ही दुनिया भर में प्रदूषण रूपी एक गढ्ढा खोद रहा है और पृथ्वी पर रहने वाले जीवो के लिए गंभीर समस्या उत्पन्न कर रहा है| जीवन की गुणवत्ता दिन-ब-दिन गिरती जा रही है क्योकि प्रदुषण एक राक्षक की तरह काम कर रहा है और विभिन्न प्रकार के बीमारी जैसे की उच्च रक्तचाप, गुर्दा रोग, सांस की बीमारी, कैंसर, महामारी, त्वचा रोग, आदि का कारण है|


 

प्रदूषण पर निबंध 6 (450 शब्द)

प्रौद्योगिक उन्नति की आधुनिक दुनिया में, प्रदूषण एक गंभीर पर्यावरणीय मुद्दा बन गया है जो की पृथ्वी पर जीवन को प्रभावित कर रहा है। प्रदूषण का सबसे महत्वपूर्ण प्रकार हैं वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, भू प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण। सभी प्रकार के प्रदूषण निस्संदेह पूरे पर्यावरण और पारिस्थितिकी तंत्र को प्रभावित कर रहे हैं अतः जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर रहे हैं। मनुष्य के मूर्ख आदतों से पृथ्वी पर हमारी स्वाभाविक रूप से सुंदर वातावरण दिन-ब-दिन बिगड़ती जा रही है।

वाहनो के बढ़ती संख्या की वजह से उत्पन्न हानिकारक और ज़हरीली गैसों का उत्सर्जन, कारखाने और खुले में आग जलाना, वायु प्रदुषण के मुख्य कारण हैं। जीवन को बेहतर बनाने की भीड़ में, हर कोई अपने आसान दैनिक दिनचर्या के लिए अच्छी तरह से संसाधन चाहता है, लेकिन वे अपने प्राकृतिक परिवेश के बारे में जरा सा भी नहीं सोचते। ज्यादातर वायु प्रदूषण रोजमर्रा की सार्वजनिक परिवहन के द्वारा होता है। कार्बन डाइऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड विषैली गैसें है जो की वायु को प्रदूषित करती है और वातावरण में ऑक्सीजन के स्तर को कम कर रहीं हैं|

उत्पादक कारखानें भी लोगों की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए, वायु प्रदूषण के लिए बड़ा योगदान कर रहीं हैं। निर्माण प्रक्रिया के दौरान कारखानों के द्वारा कुछ विषाक्त गैसें, गर्मी और ऊर्जा रिलीज होती है। कुछ अन्य आदतें जैसे की खुले स्थान पे घरेलु कचरे को जलाना आदि भी हवा की गुणवत्ता बिगाड़ रहीं हैं| वायु प्रदूषण इंसान और जानवरों में फेफड़ों के कैंसर सहित अन्य सांस की बीमारियां उत्पन्न कर रहीं हैं|

जल प्रदूषण भी एक बड़ा मुद्दा है जो सीधे समुद्री जीवन को प्रभावित करता है क्योंकि वे अपने उत्तरजीविता के लिए केवल पानी में पाए जाने वाले पोषक तत्वों पर निर्भर रहते हैं। धीरे-धीरे समुद्री जीवन का ग़ायब होना वास्तव में मनुष्य और जानवरों की आजीविका पर असर डालेगा। कारखानों, उद्योगो, सीवेज सिस्टम और खेतों आदि के हानिकारक कचरे का सीधे तौर पे नदियों, झीलों और महासागरों के पानी के मुख्य स्रोत में मिलाना ही जल को दूषित करने का कारण है। दूषित पानी पीना गंभीर स्वास्थ्य संबंधी विकार उत्पन्न करता है।

उर्वरक, कवकनाशी, शाकनाशी, कीटनाशकों और अन्य कार्बनिक यौगिकों के उपयोग के कारण मृदा प्रदूषण होता है। यह परोक्ष रूप से हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित करता है क्योकि हम मिट्टी में उत्पादित खाद्य सामग्री खाते हैं। भारी मशीनरी, वाहन, रेडियो, टीवी, स्पीकर आदि द्वारा उत्पन्न ध्वनि, ध्वनि प्रदूषण के कारण है जो की सुनने की समस्याओ और कभी कभी बहरापन का कारण बनती हैं। हमें प्राकृतिक पारिस्थितिकी तंत्र को बनाए रखने के लिए अपने पर्यावरण का ध्यान रखना चाहिए। प्रदूषण पर नियंत्रण पाने के लिए संयुक्त प्रयास की आवश्यकता है जिससे की हम एक स्वस्थ्य और प्रदुषण मुक्त वातावरण पा सके।

 

लोकप्रिय पृष्ठ:

भारत के प्रधानमंत्री

सुकन्या समृद्धि योजना

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ


Previous Story

जल प्रदूषण पर निबंध

Next Story

पेड़ बचाओ पर निबंध

One thought on “Information On Cricket In Hindi Essays On Pollution

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *